2008-06-30

मेरे सपनो को जमा करके किसी ने उछाल दिया है आसमां मे

सीधी साधी सपाट चलती जिंदगी के किसी मोड़ पर मिले कुछ इत्तेफाक बहुत खूबसूरत होते है ,इन इत्तेफाको से कई लम्हे उधार मिलते है .... ये लम्हे कभी बारिश की बूंदों से लिपटे होते है  .. कभी आसमान से झुककर नीचे झांकते है .......वो ना शायर था ना कोई दीवाना .......पर अक्सर होस्टल की छत की सबसे ऊँची मुंडेर पर लेटकर सिगरेट के कश भरता  ओर देर तक चाँद को निहारा करता  ...कई बार बारिशो में खींच कर ले जाता ....बदली वाले चाँद से उसे खासी मुहब्बत थी .......आज कल  अमेरिका मे है ....
 देर रात जब  मोबाइल बजा ....     छत  पर घूमते घूमते  नजर आसमान पर पड़ी....वही बदली वाला चाँद  वहां खड़ा था.....


 
रोज शब
खींच कर लाते है परिंदे
ओर उठाकर
टांग देते है
आसमान के सीने में
मुआ चाँद
फ़िर सारी रात सताता है

37 टिप्‍पणियां:

  1. एक और रूहानी नज़्म.. चार शब्दो में किस्सा ख़त्म कर देते है आप.. लाजवाब हुनर है..

    उत्तर देंहटाएं
  2. रात भर रोता रहा तन्हा चाँद
    सुबह फिर गीली थी ज़मीन
    सूरज से पूछो , माज़रा क्या था ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. dil ko choo gaya... aur seedhi sapat zindagi padh ke mujhe ek gaana yaad aa gaya.. latest hai Thoda Pyaar thoda Magic ka.. Nihaal ho gayi title hai uska.. :) usmein ye line hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऐसे इत्तेफाकों से होती है जिंदगी में खूबसूरती और दिल में हलचल .

    उत्तर देंहटाएं
  5. हा हा हा...

    इस पूरे पोस्ट में एक शब्द जो सब पर भरी है वह है इतेफाक... डाक्टर कभी आला से इस शब्द का चेक अप करना.... जहा जहा भी यह शब्द किसी चेतन प्राणी से मिलता है एक अजीब मंजर होता है... कभी दुःख कभी सुख... चेहरे पर मुस्कान होती है, कभी जबडा भीच जाता है... इतेफाक होता रहता है, होते भी रहने चाहिए :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. होस्टल, उस समय के दोस्त और वो समय... आपकी ही तरह मेरे भी जीवन के सबसे हसीन यादें हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब कह जाते हैं आप डॉ साहब
    ...कल ही यह लिखा गया रात को मुझसे शायद आपकी इसी बात से कुछ मिलता जुलता

    भीगा चाँद...
    टप टप टपकते मेह सा
    सिला सा अधजगा सा
    तन्हाई में लिपटा
    धीरे धीरे दस्तक देता रहा
    नज़रो से बरसता रहा ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. रोज शब
    खींच कर लाते है परिंदे
    ओर
    टांग देते है आसमान में
    मुआ चाँद
    फ़िर सारी रात सताता है
    ek khoobsoorat nazm .

    उत्तर देंहटाएं
  9. रोज शब
    खींच कर लाते है परिंदे
    ओर
    टांग देते है आसमान में
    मुआ चाँद
    फ़िर सारी रात सताता है
    ek khoobsoorat nazm .

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह बहुत खूब!!
    चाँद भी बदमाश है करता है बदमाशियां,
    ख़ुद तो सोता नहीं, हमें भी नहीं सोने देता.

    उत्तर देंहटाएं
  11. कुदरत का शुक्रिया
    कि चांद रोज न तो
    एक जैसा देती है
    और न ही एक ही जगह।

    उत्तर देंहटाएं
  12. रोज शब
    खींच कर लाते है परिंदे
    ओर
    टांग देते है आसमान में
    मुआ चाँद
    फ़िर सारी रात सताता है

    bahut hi khuubsurat! roz kahan??beech mein amavas bhi to aati hai!!!!:)

    उत्तर देंहटाएं
  13. चाँद को देखने का एक नया नज़रिया है यह !
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  14. vha Anuragji aapke likhane ka to mere pas koi javab nhi hai. sabd hi nhi milate tarif ke liye.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सीधी साधी सपाट चलती जिंदगी के किसी मोड़ पर मिले कुछ इत्तेफाक बहुत खूबसूरत होते है

    साधु साधु ।

    मुआ चाँद
    फ़िर सारी रात सताता है

    जी क्या खूब लिखा है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  16. मुआ चाँद
    फ़िर सारी रात सताता है

    waah!!!
    bahut khoobsurat lines hain...
    kam shabd mein kitni saari baatein...

    उत्तर देंहटाएं
  17. दोस्त को बतलाया या नहीँ ..
    जैसा चाँद वो देखता था
    वैसा आपने भी देखा ?:)
    बहुत सुँदर नज़्म ..
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत बढ़िया...
    डॉक्टर कवि हैं, या कवि डॉक्टर बन गया...जो भी हो, शानदार है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. ऐसा दिलकश उधार चाहो तो भी ना चुके… हाये…

    हर रात देर गये
    देखा करता था चाँद
    कि उतरे किसी जानिब
    सच हों कवियों के किस्से
    मगर वो टंगा रहा
    रात के माथे पर
    कल रात वो नहीं आया
    और आज सुबह तुम आईं।

    उत्तर देंहटाएं
  20. टांग देते है
    आसमान के सीने में
    मुआ चाँद
    फ़िर सारी रात सताता है
    wah bahut khub

    उत्तर देंहटाएं
  21. सच में भाई, इतनी अच्छी कविता करते हो तो मरीज कन्फ्यूज नहीं होते - डाक्टर है या कवि?

    उत्तर देंहटाएं
  22. शायद आपको नही पता,बादलों में चाँद देखते हुए दिल जाने क्यों उदास हो जाता है,चाँद को तकते तकते चाँद के चेहरे पर कई जाने अनजाने से चेहरे अपना रूप बदलते रहते हैं...ऐसे में कभी तो मुस्कुराने का दिल करता है और कभी गहरी सी उदासी छा जाती है,पता है क्यों?
    उन चेहरों के लिए जिन्हें हम चाहें भी तो फिर से नही देख सकते...जो ऐसे छिप गए हैं जैसे बादलों में चाँद....
    ओह्ह मैं तो भूल गई...बहुत खूबसूरत हमेशा की तरह....

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह ! क्या बात है हुजूर आज मन खुश कर दिया आपने..

    उत्तर देंहटाएं
  24. Tareefke liye alfaaz nahi hain....yaheen pe ruk jaati hun!!
    Shama

    उत्तर देंहटाएं
  25. क्या कलमतोड़ लिखता है, भाई !
    ज़िन्दे रह .. !

    उत्तर देंहटाएं
  26. मुआ चाँद
    फ़िर सारी रात सताता है

    -हाय!!!!!! क्या बतायें आपने क्या लिख दिया. बहुत बेहतरीन, अनुराग भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  27. फिर एक दिल को छूने वाली रचना। लाजवाब…

    उत्तर देंहटाएं
  28. mere chand ko ye kaun hai yu dekhne wala..... :P ...chand ko kya kya banayenge hum..... :)

    उत्तर देंहटाएं
  29. aap sabhi ka shukriya........chand aor ittefaq dono aise hi hote hai.

    उत्तर देंहटाएं
  30. रोज शब
    खींच कर लाते है परिंदे
    ओर उठाकर
    टांग देते है
    आसमान के सीने में
    मुआ चाँद
    फ़िर सारी रात सताता है

    "kmal bus kmal bus kmal"
    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  31. डियर डॉक्टर,
    बादलों में चाँद का चित्र, चाँद को निहारने का ज़िक्र,
    बात करते करते छत पर चाँद को देखना और चाँद पर सुंदर सी नज़्म,
    सच मे, "चार चाँद" लगा दिए आज तो पोस्ट मे.
    साधुवाद !!!

    उत्तर देंहटाएं
  32. हाईवे पर गाडी रोक कर
    दोस्तोँ को फोन करने वाला
    खयालोँ मेँ अचानक आ धमकने वाला
    सिरफिरा
    ज़िन्दगी के मतलब निकालता रहता है
    ये इस दुनिया का बँदा नहीँ...
    चाँद से आया लगता है

    उत्तर देंहटाएं
  33. wo na to shayar tha na koi deevana ,bus uhin cigarette ke kash lagaya karta tha chand ko dekhkar padkar laga ki har dil thoda awara hota hai .-vivek

    उत्तर देंहटाएं
  34. aaj fir kuch creations padhi aapki randomly... lekin yahan aakar ruk gai...kai baar padha...is tasveer aur chand ne nikalne hi na diya

    Shareef parinde hain aapke jo taank dete hain....hamare to naughty hain :-)

    उत्तर देंहटाएं

कुछ टिप्पणिया कभी- कभी पोस्ट से भी सार्थक हो जाती है ,कुछ उन हिस्सों पे टोर्च फेंकती है ... .जो लिखने वाले के दायरे से शायद छूट गये .या जिन्हें ओर मुकम्मिल स्पेस की जरुरत थी......लिखना दरअसल किसी संवाद को शुरू करना है ..ओर प्रतिक्रिया उस संवाद की एक कड़ी ..

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails