2008-07-17

रिश्ता ??


एडीयो से उचककर
जब तुमने
उस रिश्ते के लबो पर
अपने होठ रखे थे,
उफक का सूरज
सुर्ख़ हो कर भभका था,
पिघली आग फैल गयी थी.
इक छोर से जिस्म के....
रूह के मुहाने तक

इक लौ सी फड्फडाती है वक़्त के सफ्हो मे कही.......

38 टिप्‍पणियां:

  1. इक लौ सी फड्फडाती है वक़्त के सफ्हो मे कही.......
    बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आह! मेरी तरह जाने कितनो की आह निकलेगी ये नज़्म आपकी

    उत्तर देंहटाएं
  3. डॉक्टर साहब, एड़ियों पर उचक-उचक कर मैने इस ‘पिघलती आग’ टाइप नज़्म को छूने की कोशिश की लेकिन सिर के ऊपर से निकल गयी। माफ़ करिएगा। हिंदी में कहते तो शायद समझ जाता।… अगली पोस्ट की प्रतीक्षा रहेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. bhaiya aap hain ya Gulzar kabhie kabhie samajh nahin aata. Par bade achche shagird banenge aap unke.

    उत्तर देंहटाएं
  5. इक लौ सी फड्फडाती है वक़्त के सफ्हो मे कही.......
    क्या बात हे , भाई अब आदत सी हो गई हे आप की जली मे आने की, ना आओ तो लगता हे दिन ही नही निकला

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर कल्पना है। सस्नेह

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब अनुराग जी,

    एडीयो से उचककर
    जब तुमने
    उस रिश्ते के लबो पर
    अपने होठ रखे थे,

    उत्तर देंहटाएं
  8. एडीयो से उचककर
    जब तुमने
    उस रिश्ते के लबो पर
    अपने होठ रखे थे,

    bahut joradaar abhivyakti . bhai aaj apne to kamaal kar diya yah ek sachchai bhi hai jisaka abhash kabhi n kabhi sabhi ko hota hai . bahut badhiya .

    उत्तर देंहटाएं
  9. एडीयो से उचककर
    जब तुमने
    उस रिश्ते के लबो पर
    अपने होठ रखे थे,
    ;
    ;

    इक छोर से जिस्म के....
    रूह के मुहाने तक

    क्या अदा है यह भी कहने की .!!.बहुत खूब ...बेहद खुबसूरत एहसास है इस में

    उत्तर देंहटाएं
  10. "उष्मा"
    जीवन का अनुराग है
    और उसकी पहचान भी है !

    उत्तर देंहटाएं
  11. एडीयो से उचककर
    जब तुमने
    उस रिश्ते के लबो पर
    अपने होठ रखे थे,

    bahut original abhivyakti hai... bahut khoob

    उत्तर देंहटाएं
  12. siddarth ji
    anurag ji ne jo likha hai use "azad nazm"kahte hai ,gulzar,amrita pretam,praveen shakir jaisi shyara is fan me khoob mahir hai.
    jahan ak mai samjhi hun yahan ve ye kahna chahte hai ki "US ROJ JAB TUMNE AIDIYA UCHAKAR MUJHE CHOOMKAR IS RISHTE KO EK NAYA NAM DIYA THA EK LAPAT AATMA TAK PAHUNCHI THI ,JO AB BHI GUJRE VAQT KE PANNO ME DIKHTI HAI"
    umed hai aap samjh gaye hoge.

    उत्तर देंहटाएं
  13. sach kahun to pehli baar mein nahi samaj paya...par fir samja...aur khubsurti dil mein utar gayi...

    उत्तर देंहटाएं
  14. खूबसूरत नज़्म से रू-ब-रू करवाने का शुक्रिया.कमाल है! डक्टर साहब आप तो छाते जा रहे हैं.कम्बख्त,एक एक लफ़्ज़ दिल को छूता है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. Kya kahe Dr sahab !! aapke kalam ke liye ... lafz hi nahi .... lafzon ki jadugari to bas aap hi kar sakte hain ..........waqiy bahut hi khubsurat nazam

    उत्तर देंहटाएं
  16. इक लौ सी फड्फडाती है वक़्त के सफ्हो मे कही.......


    Uff !!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्या कल्पना है ! कुछ-कुछ तो ऊपर से भी निकल गई :-) पर दो-तीन बार पढ़ा तो जाके कुछ समझ में आई.

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. एडीयो से उचककर
    जब तुमने
    उस रिश्ते के लबो पर
    अपने होठ रखे थे,
    ............

    पिघली आग फैल गयी थी.
    इक छोर से जिस्म के....
    रूह के मुहाने तक

    अकसर सोचती हूं आपकी कलम कैसे आपके 'दिल की बात' को इतने खूबसूरत शब्द दे देती है?

    उत्तर देंहटाएं
  20. एडीयो से उचककर
    जब तुमने
    उस रिश्ते के लबो पर
    अपने होठ रखे थे,
    उफक का सूरज
    सुर्ख़ हो कर भभका था,
    पिघली आग फैल गयी थी.
    इक छोर से जिस्म के....
    रूह के मुहाने तक

    इक लौ सी फड्फडाती है वक़्त के सफ्हो मे कही.......


    कोई एक दो लाइन नही, पूरी नज़्म दिल और रूह की गहराइयों में समां जाने वाली है,ये चाँद लाईनें इतनी बातें कह जाती हैं अनुराग जी जो हम लाख चाहें भी तो कह नही सकते,यही तो आपका जादू है....बहुत खूबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  21. विलक्षण शब्द प्रयोग है अनुराग जी....अति संवेदनशील रचना...प्रेम का गहरा एहसास कराने वाली...वाह.
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  22. इक लौ सी फड्फडाती है वक़्त के सफ्हो मे कही

    बहुत उम्दा

    उत्तर देंहटाएं
  23. ऒहः..ज़ज़्बों का रेला है, यहाँ तो !
    डर है कि, चलो मुझे डुबोये तो न सही,
    पर बहा न ले जाये मेरी रूह को, उस ज़ानिब
    जो कहीं बहुत पीछे छूट गया है याकि मैं ख़ुद ही छोड़ आया ..

    उत्तर देंहटाएं
  24. इक लौ सी फड्फडाती है वक़्त के सफ्हो मे कही..
    "comendable"

    उत्तर देंहटाएं
  25. Dr, Sahebje aapke paas achchhaa vala ek aadh khanjar nahin hai kya ? Please bhej dijiye na. Taaki aapke in gamza-oishvao-andaaz par mar miTain jee. Aap jab bhee humain miliyega to hum aapko bade zor se gale lagaayenge. Aur aapne aitraaz kiya na to aapkee khair nahin. Bahut khoob Dr. Bahut Khoob. Aapka dost.

    उत्तर देंहटाएं
  26. आप सभी का तहे दिल से शुक्रिया.......

    उत्तर देंहटाएं
  27. एक नज़्म बहुत भली सी ..मगर उस शोख हसीना सी चंचल लगी..जो अपनी मासूमियत से दिल पे निशान बना जातीहै!

    उत्तर देंहटाएं

कुछ टिप्पणिया कभी- कभी पोस्ट से भी सार्थक हो जाती है ,कुछ उन हिस्सों पे टोर्च फेंकती है ... .जो लिखने वाले के दायरे से शायद छूट गये .या जिन्हें ओर मुकम्मिल स्पेस की जरुरत थी......लिखना दरअसल किसी संवाद को शुरू करना है ..ओर प्रतिक्रिया उस संवाद की एक कड़ी ..

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails