2008-04-18

नन्हा शायर


रोज़ लिखता है कई
ख़ूबसूरत नज़्म
तोतले हर्फो से बदलता है
हर लफ्ज़ के माने,
खीच कर लाता है
कई सोयी हुई ख़वाहिशे
ओर जगा कर उन्हें
उडेल देता है
वक़्त के सफ्हे पर
रात को लौटकर जाता हूँ जब मै .......
जहा-तहाँ बिखरी रहती है
बेतरतीब सी
कुछ मुस्कराती ,
कुछ रूठी
कुछ शिकायती नzमे
ओर
उन नzमो के बीच
घुटने मोड़
थका हुआ सो रहा होता है
मेरा नन्हा शायर





पिछले दो दिनों से मेरे छोटू को "चिकन पोक्स "निकल आया है,ये चिकन पोक्स क्या होता hai पापा ? वाही जों होम होम अलोन मे उस बच्चे को हुआ था ,अच्छा मेरा छोटू समझ जाता है ,उसके ४ साल के कोल्लेक्शन मे बहुत मूवी है ,जिन्हें न जाने ढेरों बार ,अनेको बार मैं भी देख चुका हूँ ओर सच बताऊँ तो कई बार मैं भी बेहद दिलचस्पी से उन्हें देखता हूँ...ओर हैरान होता हूँ बनने वाले की कल्पना शीलता का ,निमो.....एक ऐसी मूवी है जिसका एक एक dialogue मुझे याद है ,ice-age के दोनों पार्ट मैं मजे से देखता हूँ, ओर न जाने कितनी .."आपके पास बचपन मे कितनी cd थी पापा?'देर रात उसे नींद नही आ रही थी तब उसने ये सवाल पूछा ? मैं झूठ मूठ कुछ नम्बर बताता हूँ ....उसे नही कह सकता की बेटे तेरे बाप ने cd प्लेयर २४ साल की उम्र मे आकर देखा है ...तब तो हमारे पापा भी कट्टर आर्यसमाजी होने के कारण ओर कुछ आत्मनिर्भर होने की वजह से अनुशासन प्रिय थी ,ओर जब मैथ्स पड़ने बैठते थे हम बिना पिटे नही उठते थे .शायद इसी कारण से हमने मैथ्स से खुन्नस निकलते हुए एक उम्र मे जाकर biology ले ली....ओर पढते- पढते जब देर रात हो जाती ,हम चोक से दरवाजे पर लिखते की हम फलां बजे सोये है तो फलां बजे तक न उठाना ,..हमारी माँ बेचारी झगड़ती रह जाती पर पापा हमारे किसी न किसी बहाने कोई शोर वाला काम करके मुझे उठा ही देते .....तब बहुत झुंझलाहट होती थी अलबत्ता बाद मे लगा की ये सब जरूरी था .....हमे उस वक़्त केवल चित्रहार देखने की आजादी थी ,ओर रविवार की सुबह रंगोली ओर महाभारत ...हाँ किताबे पढने के लिए कभी नही रोका ,अलबत्ता माँ चलते वक़्त जेब मे कुछ ओर पैसे डाल देती की वो पैसे तो तू किताबो मे खर्च कर देगा इससे खा लेना ... दुनिया के सारे बच्चे चद्दर नही ओढ़ते ,दूध नही पीते ,ओर बहुत सारे सवाल पूछते है .....अहमद फराज की एक नज़मो की किताब मुझे मेरे दोस्त ने गिफ्ट की है . उसके बाबा उसे देखने आए है उसके लिए वो कोई    सी .डी लेकर आए है "बड़े होने पर किताबे गिफ्ट मे मिलती है ?वो उनसे सवाल पूछता है ....वो उसे कोई गोलमोल सा जवाब देते है .....उसके "सुबह इसे जल्दी मत उठाना ।देर तक सोने देना "पापा मुझसे कहते है .....पापा भी बदल गए है मैं सोचता हूँ...


22 टिप्‍पणियां:

  1. अरे बेटू की तबियत खराब है..... ? जल्दी से स्वस्थ करे ईश्वर... !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. डाक्साब - जल्दी ठीक हों चिरंजीव और तोतले हर्फों की बयानी बढ़े

    उत्तर देंहटाएं
  4. चिंता की बात नहीं। छोटू बड़ी जल्दी ठीक हो जाएगा। वैसे भी बच्चों की मासूमियत को बीमारी से कोई खतरा नहीं।
    -देव प्रकाश चौधरी

    उत्तर देंहटाएं
  5. चिकन पोक्स,इस का जोर दो, तीन दिन ही रहता हे, बस ध्यान रखे नन्हा, उन्हे खुजाये नही,ओर जल्द ठीक हो जाये गा.

    उत्तर देंहटाएं
  6. नन्हें जी जल्दी अच्छे हो जाए .इस मौसम में यह अक्सर हो जाता है ..बस उनका पूरा ध्यान रखे बाकी के लेख ने बचपन हमे भी याद करवा दिया :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. wish juriour anuraag get well soon doc sab,aapki nazm bhi bahut khub hai,aur experience bhi bahut badhiya,humne bhi maths ko 10 kaksha ke baad tilanjali de di thi :):).
    tk cr of juniour ,god bless him.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपका यादों के मोड में लिखना अच्छा लगता है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. उन नzमो के बीच
    घुटने मोड़
    थका हुआ सो रहा होता है
    मेरा नन्हा शायर

    क्या बात है..
    जल्द ही आपका ये शायर स्वस्थ हो इसी कामना के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  10. डॉक्टर साहब!
    कितनी मासूमियत से कह दी आपने
    नन्ही ज़बान की बड़ी बातें!
    नज़्म जैसा-ही नन्हें का सोना
    कितना सुंदर लगता होगा!
    एक शायर डॉक्टर के
    ज़िगर के टुकड़े की
    शायरी और सेहत की खातिर
    हमारी ग़ज़लों की मानिंद
    शुभकामनाएँ स्वीकार कीजिए!

    आपका
    डा.चंद्रकुमार जैन

    उत्तर देंहटाएं
  11. डॉक्टर साब, आपने जिन मुवीस का नाम लिखा है वो तो मेरी भी पसंदीदा मुवीस में से हैं... और सेहत तो अब तक ठीक हो गई होगी शायर साब की... बच्चों की प्यारी दुनिया का कहना ही क्या है... तोतली प्यारी बातें.

    उत्तर देंहटाएं
  12. आशा है अपना नन्हा शायर जल्द ही स्वस्थ होकर कुछ और नज़्म खींच लाएगा..

    उत्तर देंहटाएं
  13. आप सभी का आशीर्वाद मैंने छोटू तक पहुँचा दिया है ओर उसकी ओर से आप सभी को शुक्रिया.....

    उत्तर देंहटाएं
  14. छोटू जल्द ठीक हों इस हेतु मेरी मंगलकामनायें. बहुत दूर तक ले गये आप यादों के सफर में.

    उत्तर देंहटाएं
  15. नन्हा मुन्ना शायर जल्दी ही ठीक होगा और फिर से अपनी तोतली बोली में नज़्म कहना शुरु कर देगा... प्यारे शायर को हमारी दुआएँ .. ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. hamari taraf se bhi dua hai ki jaldi hi nanha shayar sehatmand ho jaye.[by the way aap ne us ko chiken pox ke against vaccinate kyun nahin karwaya tha??vaccine to kayee salon se india mein mouzud hai.]
    --bahut hi masummeyat bhare sawal hote hain aaj kal ke bachchon ke----ek baar isitarah meri beti ne [jab india visit par pahli baar 'rag pickers bachchon ko dekha to] ek sawal puchha tha- ki -kyun ye bachchey gandey kapdon aur bina chapplon ke hain???kyun in ke papa bank se paise le kar in ko nahin dete??
    ----

    उत्तर देंहटाएं
  17. sameer ji ,meenakshi ji ,aor alpna ji shukriya.....
    alpna ji vaccination keval complication ko rokta hai aor severity of chicken pox ko....vaise bhi is vaccination ki study ko india me keval 10 ya 11 saal hue hai,jab ye launch hua tha tab galaxo pharma ne kaha tha ki iske bad chicken pox nahi hoga ,jo galat hai.....ihave seen lots of kid suffering from chickenpox even after getting it,my son is one of them.......

    उत्तर देंहटाएं
  18. Oh Thats really sad to know..Now I need to be careful as I was tensionfree after my son got vaccinated..

    chicked pox is very very common here too in school kids in special seasons.
    Thanks for the valuable information.

    उत्तर देंहटाएं
  19. best days waiting for him. once and never again, this is chickenpox. may he get well soon.

    उत्तर देंहटाएं
  20. ummid hai nanha shayad ab tak thik ho gaya hoga...meri shubhkaamnayein. bahut pyaara likha hai aapne.

    उत्तर देंहटाएं
  21. शुक्रिया डाक्टर साब,मैं तो इतनी प्यारी नज़्म से वंचित ही रह जाता.आपका आभारी हूँ कि आपने लिंक दिया ये...

    बहुत खूब

    अभी लगता है एक-एक कर आपकी तमाम पोस्टों को खोल-खोल कर देखना पड़ेगा.जाने कितने हीरे-पन्ने छुपे हों!

    उत्तर देंहटाएं

कुछ टिप्पणिया कभी- कभी पोस्ट से भी सार्थक हो जाती है ,कुछ उन हिस्सों पे टोर्च फेंकती है ... .जो लिखने वाले के दायरे से शायद छूट गये .या जिन्हें ओर मुकम्मिल स्पेस की जरुरत थी......लिखना दरअसल किसी संवाद को शुरू करना है ..ओर प्रतिक्रिया उस संवाद की एक कड़ी ..

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails